Search Browse Subjects Browse Authors Shopping Cart

Quick Search:

Advanced Search
(You can always search in Google or Bing using Unicode Devnagari as "मी कसा झालो site:rasik.com")
 

Marathi Library New
- Select books and magazines.
- Receive by mail.
- Read them.
- Send back by mail.
- No shipping charges!
Marathi CDs & Cassettes
Marathi Books
  New Additions
  Browse Categories
  Browse Authors
  Browse Publishers
  Read Synopsis of Books
Best marathi books
  Favorite of Our Visitors
  Sahitya Akademi Winners
  List of Best by Antarnad
  List of Best by AIR 1997
  List of Best by ma.TA. 1986
Online Marathi Books
Learn Phonetics
About Us
Tell us your favorite books
Download Fonts


राग विशारद (हिंदी) भाग २
Author: लक्ष्मीनारायण गर्ग
Publisher: संगीत कार्यालय
Add to Shopping Cart
Price: $21.32 $17.05 20% OFF ( ~1000 Pages, R675)*
Reaches you in 4 to 5 weeks. We do not carry inventory. Availability status of Marathi books is always fluid. We promptly post refund for OutOfPrint books. (More options)

* Price does not include shipping charge. It is calculated for the the full order.

Note: Because of lack of uptodate information, certain books could be out of print or unavailable. In such case, the cost for those books will be refunded in full to you.


Synopsis:
राग विशारद भाग दूसरा
भातखंडे संगीत महाविद्यालय, गान्धर्व महाविद्यालय मंडल प्रयाग संगीत-समिति, प्राचीन कलाकेन्द्र, इन्दिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग
एवं अम्बेडकर, दयालबाग, इलाहाबाद, मंगलायतन, रुहेलखण्ड, श्रीनगर, जम्मू, अमृतसर, पंजाब, पंजाबी, हिमाचल प्रदेश, कुरुक्षेत्र, रोहतक, गढ.वाल, अमरावती, गुरुकुल कअॅंगड.ई, कुमाऊअॅं, मेरठ, दिल्ली, कानपुर, अवध, गोरखपुर, झअॅंसी, बनारस, मिथिला, बिहार, पटना, भागलपुर, मगध, रअॅंची, वर्द्धमान, कलकत्ता, मणिपुर, उत्कल, रीवअॅं, रायपुर, जबलपुर, बिलासपुर, सागर, भोपाल, इन्दौर, ग्वालियर, उज्जैन, जोधपुर, जयपुर, कोल्हापुर, वनस्थली, सौराष्ट्र, बड.औदा, नागपुर, मराठवाड.अ, पूना और मुम्बई विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमानुसार
भूमिका
राग विशारद' का दूसरा भाग प्रस्तुत है, इसके प्रथम भाग में राग से सम्बन्धित अधिक-से-अधिक शास्त्रोक्त जानकारी प्रदान की गई थी| इस भाग में केवल क्रियात्मक सामग्री दी जा रही है| संगीत की परीक्षाओं में आनेवाली उन सभी बन्दिशों का चयन इसमें किया गया है, जो स्व० भातखण्डे जी द्वारा लिखित 'हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति क्रमिक पुस्तक मालिका' के समस्त भागों में यत्र-तत्र दी गई हैं|
अच्छा गायक बनना और परीक्षा की दृष्टि से गायन सीखना दो अलग-अलग बातें हैं| जिन व्यक्तियों में संगीत-संस्कार होता है और जिनमें संगीत-कला की गहराइयों को छूने की लालसा होती है, केवल वे ही रससिद्ध गायक बन पाते हैं| जिन व्यक्तियों का लक्ष्य केवल परीक्षा उत्तीर्ण करना होता है, वे उत्कृष्ट कलाकार तो नहीं बन पाते, परन्तु संगीत के संस्कार का बीजारोपण उनके अन्दर अवश्य हो जाता है और भावी पीढ.ई में कभी-न-कभी वे बीज वृक्ष भी बन जाते हैं|
ऽ राग विशारद' के इस भाग में महत्त्वपूर्ण बन्दिशों का संकलन है| इसके साथ ऐसे फ.इल्मी गीतों की सूची भी दी गई है, जो रागों पर आधारित रहे हैं| यदि संगीत-प्रेमियों ने राग विशारद' से लाभ उठाया, तो हमारा प्रयास सार्थक सिद्ध होगा|
अनुक्रम
भूमिका ३
शास्त्रीय राग १७
राग दरबारी कानड.अ १७; राग दुर्गा (खमाज ठाठ) ३७; राग दुर्गा (बिलावल ठाठ) ४०; राग दीपक (पूर्वी मेलजन्य प्रकार) ४४; राग दीपक (बिलावल मेलजन्य प्रकार) ४७; राग देवगांधार ५०; राग देवगिरी (बिलावल ठाठ) ५४; राग देवरंजनी ६१; राग देशकार ६४; राग देशाख्य (दवसाख) ७९; राग देस ८५; राग देसी १०६; राग धनाश्री | ११९; राग धानी १२५; राग धूलिया मल्लार १२७; राग नंद १३२; राग नट १३५; राग
नटनारायण १३८; राग नटबिलावल १४०; राग नटबिहाग १४६; राग नटमल्लार १४८; | राग नायकीकानड.अ १५३; राग नारायणी १६३; राग पंचम १६५; राग परज १७१; राग
पलासी १८५; राग पटबिहाग १८८; राग पटमंजरी १९०; राग पटमंजरी (बिलावल ठाठ) | १९४; राग पहाड.ई १९८; राग पीलू २०१; राग पूरिया २१६; राग पूरियाधनाश्री २३०; राग पूर्वा २४५; राग पूर्वी २४९; राग प्रदीपकी अथवा पटदीपकी २६३; राग बडहंससारंग २७०; राग बरवा २७१; राग बहार २८३; राग बहादुरीतोड.ई ३०३; राग बागेश्री ३०५; राग | बिन्द्राबनीसारंग ३२३; राग बिलावल या अल्हैयाबिलावल ३३७; राग बिहाग ३४६; राग बिहागड.अ व नटबिहाग ३६६; राग भंखार ३७१; राग भटियार ३७४; राग भीमपलासी ३७९; राग भूपाल तोड.ई ३९५; राग भूपाली ३९८; राग भैरव ४१५; राग भैरवबहार ४३३; राग भैरवी ४३७; राग मध्यमादि सारंग ४४८; राग मधुवंती ४५५; राग मनोहर ४५८; राग मलुहा अथवा मलुहाकेदार ४५९; राग मांड ४६६; राग मारवा ४६८; राग मारूबिहाग ४८१; राग मालकौंस ४८६; राग मालगुंजी ५०१; राग मालवी ५०२; राग मालश्री ५०५; राग मालीगौरा ५१५; राग मियअॅं की सारंग ५२१; राग मियअॅंमल्लार ५२६; राग मीराबाई की मल्हार ५४४; राग मुलतानी ५४७; राग मेघ ५६१; राग मेघमल्लार ५६४; राग मेघरंजनी ५७४; राग मेवाड.अ ५७७; राग मोटकी ५८०; राग यमन/यमनकल्याण ५८२; राग यमनी बिलावल ६०४; राग रागेश्वरी ६१४; राग रामकली ६१८; राग रामदासीमल्लार ६२९; राग रूपमंजरी मल्लार ६३४; राग रेवा ६३७; राग लच्छासाख ६४१; राग ललित ६४७; राग ललितपंचम अथवा ललतपंचम ६६०; राग ललितागौरी ६६४; राग लक्ष्मीतोड.ई ६६७; राग लाचारीतोड.ई ६६९; राग वराटी अथवा बरारी ६७३; राग वसंत ६७७; राग वसंतमुखारी ६९१; राग वसंतबहार ६९३; राग विभास ६९४; राग विभास (भैरव ठाठ) ६९९; राग विभास (पूर्वी ठाठ) ७०९; राग बिलासखानी तोड.ई ७११; राग श्यामकल्याण ७१७; राग शंकरा ७२५; राग शहाना ७४१; राग शिवभैरव या शिवमतभैरव ७४६; राग शुक्लबिलावल ७५२; राग शुद्धकल्याण ७६०; राग शुद्धसारंग ७७१; राग श्री ७७५; राग श्रीरंजनी ७९१; राग सरपरदा ७९४; राग साजगिरी ७९९; राग सामंतसारंग ८०३; राग सावन ८०६; राग सावनी (बिहाग अंग) ८०७; राग सावनीकल्याण ८१४; राग सिंध ८१७; राग सिंध भैरवी ८१९; राग सुघराई ८२२; राग सूरमल्लार ८३२; राग सूहा ८४१; राग सैंधवी अथवा सिंदूरा ८५०; राग सोरट ८५९; राग सोहनी ८६६; राग सौराष्ट्र भैरव या सौराष्ट्रटंक ८८१; राग हंसकंकणी ८८५; राग हंसनारायणी ८८९; राग हंसध्वनि ८९१; राग हमीर ८९६; राग हिंदोल ९१६; राग हेमकल्याण ९२६; राग हेमन्त ९३०; राग त्रिवेणी ९३८
रागों पर आधारित फिल्मी गीत ९४२-९५२ तक
चीज., राग, ताल, लय के अनुसार सूची ९५३

Write your review for this book

Other works of लक्ष्मीनारायण गर्ग
   राग विशारद (हिंदी) भाग १
   सूर संगीत

Similar books:
  संगीत
   रसिकहो!
   कुमार
   राग बोध (हिंदी) भाग १, २, ३, ४
   स्वरसौहार्द
   अस्ताई
   More ...  

Home Help Desk FAQ Your Comments

© 1998 - Rasik Enterprises.